LATEST:


विजेट आपके ब्लॉग पर

सोमवार, 24 जनवरी 2011

कोटि-कोटि नमन तुझे है.....


                   कोटि-कोटि नमन तुझे है......





हे स्वर साधक......सूर सम्राट.......सरस्वती भक्त
तुझे विश्व की विनम्र श्रद्धांजलि.........................
तुझे शत-शत नमन करते हैं हम......................
तुझे ह्रदय में बिठा-रखेंगे हम...........................

5 टिप्‍पणियां:

deepak saini ने कहा…

ईश्वर जोशी जी की आत्मा को शांती प्रदान करे।

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

pandit bhimsen joshiji ka nidhan sangeet ke ek yug ka avsan hai.
ishwar unki atma ko shanti de .

Bhushan ने कहा…

एक आधार स्वर फेड आऊट हो गया. भीमसेन जी को शत-शत नमन.

: केवल राम : ने कहा…

संगीत की दुनिया को ही नहीं एक विनम्र और प्रभावशाली व्यक्तित्व का आभाव हो गया समाज को ..पर क्या करें नियति यही है .....शुक्रिया आपका

Patali-The-Village ने कहा…

ईश्वर जोशी जी की आत्मा को शांती प्रदान करे।